Saturday, February 25, 2006

मैं तैयार नहीं था

मैं तैयार नहीं था सफर के लिए
याने सिर्फ चड्डी पहिने था और बनियान
एकदम निकल पड़ना मुमकिन नहीं था
और वह कोई ऐसा बमबारी
भूचाल या
आसमानी सुलतानी का दिन नहीं था
कि भाग रहे हों सड़क पर जैसे तैसे सब
इसलिए मैंने थोड़ा वक्त चाहा
कि कपड़े बदल लूँ
रख लूँ साथ में थोड़ा तोशा
मगर जो सफर पर चल पड़ने का
आग्रह लेकर आया था
उसने मुझे वक्त नहीं दिया
और हाथ पकड़कर मेरा
लिए जा रहा है वह
जाने किस लम्बी सफर पर
कितने लोगों के बीच से
और मैं शरमा रहा हूँ
कि सफर की तैयारी से
नहीं निकल पाया
सिर्फ चड्डी पहने हूँ
और बनियान !
-भवानीप्रसाद मिश्र
****

0 Comments:

Post a Comment

<< Home